ओशो

जिंदगी का कितना मूल्य है? ओशो

OSHO's picture
जिंदगी का कितना मूल्य है? ओशो

च्वांगत्सु चीन में हुआ, एक फकीर था। लोगों ने उसे हंसते ही देखा था, कभी उदास नहीं देखा था। एक दिन सुबह उठा और उदास बैठ गया झोपड़े के बाहर! उसके मित्र आये, उसके प्रियजन आये और पूछने लगे, आपको कभी उदास नहीं देखा। चाहे आकाश में कितनी ही घनघोर अंधेरी छायी हो और चाहे जीवन पर कितने ही दुखदायी बादल छाये हों, आपके होठों पर सदा मुस्कुराहट देखी है। आज आप उदास क्यों हैं? चिंतित क्यों हैं?

च्वांगत्सु कहने लगा, आज सचमुच एक ऐसी उलझन में पड़ गया हूं, जिसका कोई हल मुझे नहीं सूझता। Read : जिंदगी का कितना मूल्य है? ओशो about जिंदगी का कितना मूल्य है? ओशो

जो है- है, उसमें रोना-हंसना क्या?

ओशो's picture
जो है- है, उसमें रोना-हंसना क्या?

सुबह आती है, तो मैं सुबह को स्वीकार कर लेता हूं और सांझ आती है, तो सांझ को स्वीकार कर लेता हूं। प्रकाश का भी आनंद है और अंधकार का भी। जब से यह जाना, तब से दुख नहीं जाना है।
Read : जो है- है, उसमें रोना-हंसना क्या? about जो है- है, उसमें रोना-हंसना क्या?

जन्म-मृत्यु से परे है जीवन!

ओशो's picture
जन्म-मृत्यु से परे है जीवन!

मैं एक शवयात्रा में गया था। जो वहां थे, उनसे मैंने कहा- यदि यह शवयात्रा तुम्हें अपनी ही मालूम नहीं होती है, तो तुम अंधे हो। मैं तो स्वयं को अर्थी पर बंधा देख रहा हूं। काश! तुम भी ऐसा ही देख सको, तो तुम्हारा जीवन दूसरा हो जावे। जो स्वयं की मृत्यु को जान लेता है, उसकी दृष्टिं संसार से हटकर सत्य पर केंद्रित हो जाती है।
Read : जन्म-मृत्यु से परे है जीवन! about जन्म-मृत्यु से परे है जीवन!

यांत्रिक प्रवाह से मुक्ति!

ओशो's picture
यांत्रिक प्रवाह से मुक्ति!

मंदिर और उपासना-गृहों में बैठने का कोई मूल्य नहीं है और तुम्हारे हाथों में ली गई मालाएं झूठी हैं, जब तक कि विचार के यांत्रिक प्रवाह से तुम मुक्त नहीं होते हो। जो विचारों की तरंगों से मुक्त हो जाता है, वह जहां भी है, वहीं मंदिर में है और उसके हाथ में जो भी कार्य है, वही माला है।
Read : यांत्रिक प्रवाह से मुक्ति! about यांत्रिक प्रवाह से मुक्ति!

सत्य की एक झलक

ओशो's picture
सत्य की एक झलक

सत्य की एक किरण भी बहुत है। ग्रंथों का भार जो नहीं करता है, सत्य की एक झलक भी वह कर दिखाती है। अंधेरे में उजाला करने को प्रकाश के ऊपर बड़े-बड़े शास्त्र किसी काम के नहीं, एक मिट्टी का दीया जलाना आना ही पर्याप्त है।
Read : सत्य की एक झलक about सत्य की एक झलक

अंध-जीवेषणा

ओशो's picture
अंध-जीवेषणा

मैंने सुना है कि क्राइस्ट ने लोगों को कब्रों से उठाया और उन्हें जीवन दिया। जो स्वयं को शरीर जानता हे, वह कब्र में ही है। शरीर के ऊपर आत्मा को जानकर ही कोई कब्र से उठता और जीवित होता है।
Read : अंध-जीवेषणा about अंध-जीवेषणा

संसार दर्पण है!

ओशो's picture
संसार दर्पण है!

फूलों को सारा जगत फूल है और कांटों को कांटा। जो जैसा है, वैसा ही दूसरे उसे प्रतीत होते हैं। जो स्वयं में नहीं है, उसे दूसरों में देख पाना कैसे संभव है! सुंदर को खोजने, चाहे हम सारी भूमि पर भटक लें, पर यदि वह स्वयं के ही भीतर नहीं है, तो उसे कहीं भी पाना असंभव है।
Read : संसार दर्पण है! about संसार दर्पण है!

जीवन को विधायक आरोहण दो!

ओशो's picture
जीवन को विधायक आरोहण दो!

जीवन से अंधकार हटाना व्यर्थ है, क्योंकि अंधकार हटाया नहीं जा सकता। जो जानते हैं, वे अंधकार को नहीं हटाते, वरन् प्रकाश को जलाते हैं।
Read : जीवन को विधायक आरोहण दो! about जीवन को विधायक आरोहण दो!

आंखों से सत्य देखो!

ओशो's picture
आंखों से सत्य देखो!

सूर्य की ओर जैसे कोई आंखें बंद किये रहे, ऐसे ही हम जीवन की ओर किये हैं। और, तब हमारे चरणों का गड्ढों में चले जाना, क्या आश्चर्यजनक है? आंखें बंद रखने के अतिरिक्त न कोई पाप है, न अपराध है। आंखें खोलते ही सब अंधकार विलीन हो जाता है।
Read : आंखों से सत्य देखो! about आंखों से सत्य देखो!

स्वयं से पूछो : ''मैं कौन हूं?''

ओशो's picture
स्वयं से पूछो : ''मैं कौन हूं?''

''मैं कौन हूं?'' जो स्वयं से इस प्रश्न को नहीं पूछता है, ज्ञान के द्वार उसके लिए बंद ही रह जाते हैं। उस द्वार को खोलने की कुंजी यही है। स्वयं से पूछो कि ''मैं कौन हूं?'' और, जो प्रबलता से और समग्रता से पूछता है, वह स्वयं से ही उत्तर भी पा जाता है।
Read : स्वयं से पूछो : ''मैं कौन हूं?'' about स्वयं से पूछो : ''मैं कौन हूं?''

Pages

Subscribe to RSS - ओशो